हवा-हवाई होते जा रहे संस्कार, विमान में यात्रियों के असभ्य व्यवहार का किस्सा थम नहीं रहा




विमान में यात्रियों के र्दुव्‍यवहार और अशालीन होने की घटनाएं अब चिंता बढ़ाने लगी हैं, क्योंकि विमान में सफर कर रहे प्रत्येक यात्री से सभ्यता और बेहतर व्यवहार की अपेक्षा की जाती है। विमान में यात्रा करने वाला यात्री चूंकि संभ्रांत परिवार से जुड़ा होता है, सो उससे ऐसे व्यवहार की अपेक्षा नहीं होती, जो समाज को गलत संदेश दे। लेकिन कुछ यात्रियों के चलते अब रुतबे का पर्याय कही जाने वाली हवाई यात्रा हवा-हवाई साबित हो रही है। पिछले कुछ समय से विमान में यात्रियों के व्यवहार पर आकाश से लेकर जमीन तक चर्चाओं का दौर हो चुका है। विमान कंपनियों और सरकार की तरफ से कड़ी चेतावनी का निर्देश जारी हो चुका है, मगर यात्रियों पर कोई फर्क पड़ता नहीं दिख रहा है। विमान में यात्रियों के असभ्य व्यवहार का शिकार अब दंगल गर्ल जायरा वसीम हुई हैं। जायरा दिल्ली से मुंबई जाते समय एयर विस्तारा की फ्लाइट में पीछे बैठे एक यात्री की छेड़खानी का शिकार हुईं। इससे कुछ दिनों पहले ही अभिनेत्री टीना दत्ता और फेसबुक के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग की बहन रैंडी जुकरबर्ग भी छेड़छाड़ का शिकार हो चुकी हैं।
बहरहाल, दंगल गर्ल की घटना सामने आते ही सरकार से लेकर महिला आयोग और समाज का एक वर्ग आगे आया है और विमान में होने वाली इस तरह की घटनाओं पर सख्त कार्रवाई की मांग कर रहा है। लेकिन सवाल यह है कि सख्त कार्रवाई का पैमाना क्या होगा, क्योंकि पिछले दिनों ही सरकार ने दिशा-निर्देश जारी करते हुए कहा था कि विमान में असभ्यता दिखाने वाले यात्रियों को नो फ्लाई लिस्ट में डाल दिया जाएगा। लेकिन यात्रियों पर इस सख्ती का कोई असर नहीं है। हाल ही घटनाओं को देखें, तो यह साबित भी हो जाता है। विमान में यात्रा के दौरान छेड़छाड़ और मारपीट की घटनाएं किसी एक देश की समस्या नहीं है। अब आए दिन देश-दुनिया से ऐसी खबरें आम हो गई हैं। इसलिए व्यापक पैमाने पर इस दिशा में सोचना होगा। अगर इस तरह की घटनाओं पर रोक लगाना है, तो विमान के अंदर ही कोई ऐसी व्यवस्था बनानी होगी, जो असभ्य व्यवहार करने वाले यात्रियों पर शिकंजा कस सके। इससे उन महिला यात्रियों को भी न्याय मिलेगा, जो शिकायत करने की हिम्मत नहीं कर पातीं।
खैर, इस तरह की घटनाओं के पीछे के कारणों को देखें, तो पता चलेगा कि अब विमान में यात्रा करना बेहद आसान हो गया है। कम किराया होने से अब वे यात्री भी विमान की तरफ आकर्षित हो रहे हैं, जिनके लिए एक समय हवाई यात्रा करना सिर्फ सपना था। पिछले पांच वर्ष में देश की विभिन्न एयरलाइंस ने अपनी सीटों में 64 फीसदी का इजाफा किया है। 2016-17 में एयरलाइंस की कुल सीटें 12.30 करोड़ रहीं। विमानन मंत्रालय के अनुसार, 2015 के औसत किराए की तुलना में 2016 में हवाई किराया 18 फीसदी कम हुआ है। इस तरह से देखा जाए, तो विमान में अब वे यात्री भी सफर करने लगे हैं, जिनसे बेहतर व्यवहार या संस्कार की अपेक्षा नहीं की जा सकती। पहले टीना दत्ता और अब दंगल गर्ल से छेड़छाड़ को ऐसे ही यात्रियों की करतूत का नतीजा मानना चाहिए।

Comments

Popular posts from this blog

एक कलाकार की स्मृति का बिकना

भारत भले ही10 सबसे असुरक्षित देशों की सूची में शामिल न हो, लेकिन देश में सुरक्षित माहौल बड़ी चुनौती

बुराड़ी की घटना के मायने बेहद गंभीर